हिंदू कैलेंडर के अनुसार 12 महीनों के नाम | विक्रम संवत 2079 | Hindu Calendar Months Name In Hindi

यदि हम किसी भी व्यक्ति से पूछे कौन सा महीना चल रहा है तो वह तुरंत जवाब में बोलता है जनवरी या मार्च या जुलाई इत्यादि। आजकल हम अपने बच्चों को महीनों के बारे में जब भी बताते हैं तो उनको जनवरी, फरवरी, मार्च ही पढ़ाते हैं, यहां तक की स्कूलों में भी आजकल हिंदी में महीनों के बारे में नहीं बताया जाता है। लेकिन हमें साल के 12 महीनों के नाम Hindu calendar में भी पता होना चाहिए।
 
hindu-calendar-ke-mahino-ke-naam
Hindu Calendar ke mahino ke Naam 

आइए दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको Hindu Calendar ke 12 Mahino ke Naam के साथ इसके अंतर्गत आने वाले सभी प्रमुख त्योहारों के बारे में भी बताएंगे, ताकि आप खुद भी जानकारी हासिल करें और अपने बच्चों को भी सिखाएं।

आगे बढ़ने से पहले आपको यह जानना जरूरी है कि हिंदू कैलेंडर क्या होता है और इसका हमारे हिंदू समाज में क्या महत्व है। तो चलिए जानते हैं -

हिंदू कैलेंडर क्या होता है? 


विक्रम संवत एक हिन्दू कैलेंडर है। वर्तमान में यानि की 2023 में हमलोग Hindu Calendar के अनुसार अभी Vikram Samvat 2080 चल रहा है। प्राचीन समय से हमारे देश में समय को जानने के लिए या यूं कहें मापने के लिए हिंदू कैलेंडर का उपयोग किया जाता था। उस समय से आज तक हम लोग हिन्दू कैलेंडर के अनुसार ही चलते हैं, लेकिन आजकल लोगों को हिंदू कैलेंडर के बारे या उनके महत्व के बारे में अधिक जानकारी नहीं होती है। भारत में हिंदू कैलेंडर का निर्माण पंचांग के द्वारा किया गया है।

यह हिन्दू कैलेंडर सौर और चंद्र दोनों की सहायता से मिलकर बनता है और यह खगोल विज्ञान और धर्म पर आधारित होता है। हिंदू धर्म के कैलेंडर में अंग्रेजी कैलेंडर की तरह 12 महीने होते हैं।

अब हम जानेंगे कि हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से सभी महीनों के क्या-क्या नाम होते हैं,तो आइए दोस्तों आगे बढ़ते हैं-

हिन्दू कैलेंडर के सभी महीनों के नाम (Hindu Calendar Months Name)

जैसे हम अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार महीनों के नाम जनवरी, फरवरी, मार्च जानते हैं वैसे ही हिंदू कैलेंडर के अनुसार भी इन 12 महीनों के नाम अलग-अलग होते हैं जैसे चैत्र, वैशाखी इत्यादि। इन 12 अलग-अलग महीनों के साथ साथ हम इन के अंतर्गत आने वाले कुछ प्रमुख त्योहार, पर्व, जयंती को भी जानेंगे।

हिन्दू कैलेंडर विक्रम संवत के अनुसार चैत्र साल का पहला और फाल्गुन साल का आखिरी महीना होता है। हिन्दू महीनों के नाम इस प्रकार है-
  1. चैत्र
  2. बैसाख
  3. ज्येष्ठ
  4. आषाढ़
  5. श्रावण
  6. भाद्रपद
  7. अश्विन
  8. कार्तिक
  9. मार्गशीर्ष
  10. पौष
  11. माघ
  12. फाल्गुन

English aur Hindu Calendar Ke के अनुसार 12 महीनों के नाम

मार्च से अप्रैल तक चैत्र
अप्रैल से मई तक वैशाख
मई से जून तक ज्येष्ठ
जून से जुलाई तक आषाढ़
जुलाई से अगस्त तक श्रावण
अगस्त से सितम्बर तक भाद्रपद
सितम्बर से अक्टूबर तक आश्विन
अक्टूबर से नवंबर तक कार्तिक
नवंबर से दिसंबर तक मार्गशीर्ष
दिसंबर से जनवरी तक पोष
फरवरी से मार्च तक माघ
मार्च से अप्रैल तक फाल्गुन

यह भी जाने:- अपनी पत्नी को काबू करने के 10 अचूक तरीके

Hindu Calendar के अनुसार ऋतुओं के नाम

आइए दोस्तों, एक नजर हम हिंदू कैलेंडर के महीनों में आने वाले ऋतुओ के बारे में भी डालेंगे। हिंदू कैलेंडर के अनुसार ऋतुओ का आकलन 6 तरीकों से किया गया है, इस कैलेंडर के अनुसार ऋतुओ के नाम कुछ इस प्रकार हैं - बसंत ऋतु, ग्रीष्म ऋतु, वर्षा ऋतु, शरद ऋतु, हेमंत ऋतु और शिशिर शीत शामिल है।

ऋतुओ के नाम हिंदी माह में
वसंत ऋतु (स्प्रिंग) चैत्र से वैशाख
ग्रीष्म ऋतु (Summer) ज्येष्ठ से आषाढ़
वर्षा ऋतु(Rainy) आषाढ़ से सावन
शरद ऋतु (Autumn) भाद्रपद से आश्विन
हेमंत ऋतु  (Pre Winter) कार्तिक से पौष
शिशिर/शीत ऋतु (Winter) माघ से फाल्गुन

हिंदू कैलेंडर के महीनों के नाम और उनके प्रमुख त्योहार

अब दोस्तों, हम आपको इन सभी हिन्दू महीनों के के बारे में आपको बताएंगे साथ ही महीनों के महत्व और उन आने वाले त्योहारों की भी जानकारी हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से देने वाले हैं।

चैत्र

चैत्र महीने से हिंदू नव वर्ष की शुरुआत होती है। इसे मधुमास के नाम से भी हम जानते हैं। ऐसे तो हम 1 जनवरी को अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से नववर्ष मनाते हैं लेकिन वह हमारे हिंदू धर्म में सही नहीं है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार चैत्र माह मार्च के मध्य में शुरू होता है और यह अप्रैल के मध्य तक खत्म हो जाता है।

प्रमुख त्योहार

  • बसोड़ा, चैत्र पूर्णिमा
  • पापमोचिनी एकादशी
  • गुडी पड़वा (हिन्दू नववर्ष)
  • चैत्र नवरात्र, राम नवमी, हनुमान जयंती

बैशाख

हिंदू कैलेंडर के हिसाब से यह साल का दूसरा महीना होता है। वैशाख करीब अप्रैल के मध्य से शुरू होता है और मई के मध्य तक में समाप्त हो जाता है। जैसा कि हम जानते हैं बैसाखी पंजाब के लोगों के लिए बहुत पवित्र होता है। बंगाली न्यू ईयर वैशाख में मनाया जाता है, वही पश्चिम बंगाल में इस समय लोग अच्छे काम करने के लिए इस महीने को शुभ मानते हैं।

प्रमुख त्योहार

  • पंजाबी एवं बंगाली का नया वर्ष
  • बुद्ध पूर्णिमा
  • परशुराम जयंती
  • बैसाखी

ज्येष्ठ

हिंदू कैलेंडर के हिसाब से ज्येष्ठ साल का तीसरा महीना होता है। ऐसा कहा जाता है कि सूर्य के तापमान के कारण इस महीने का नाम ज्येष्ठ रखा गया था। यह माह मई के मध्य से शुरुआत होती है और जून के मध्य में समाप्त हो जाती है। इस माह में गर्मियां बहुत तेज पड़ती है। ज्येष्ठ के माह में बहुत सारे त्योहार मनाए जाते हैं।

प्रमुख त्योहार

  • शनि जयंती
  • गंगा जयंती
  • निर्जला एकादशी
  • वट पूर्णिमा

आषाढ़

आषाढ़ साल का चौथा महीना होता है और इस माह से मानसून की शुरुआत हो जाती है। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार जून के मध्य से शुरू होकर जुलाई के मध्य में खत्म हो जाती है। आषाढ़ के महीने की पूर्णिमा को हम गुरुपूर्णिमा के रूप में मनाते हैं। इस माह में ज्यादा त्योहार और उत्सव नहीं मनाया जाता है, क्योंकि पुराणों के अनुसार देवशयनी एकादशी में कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। इस माह में विवाह जैसे शुभ कार्य भी स्थगित कर दिया जाता है।

प्रमुख त्योहार

  • गुरु पूर्णिमा
  • देवशयनी एकादशी
  • वर्षा ऋतु
  • आषाढी एकादशी

श्रावण

श्रावण को हम सावन भी कहते हैं। यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार पांचवे महीने में आता है। यह माह सबसे ज्यादा पवित्र माना जाता है क्योंकि श्रावण भगवान शिव को बहुत प्रिय होता है। इस माह में हम भगवान शिव की पूजा भी करते हैं जिसे हम सावन या सोमवारी के नाम से जानते हैं। श्रावण माह जुलाई के मध्य से शुरू होकर अगस्त के मध्य में समाप्त हो जाता है।

प्रमुख त्योहार

  • रक्षा बंधन
  • नाग पंचमी
  • हरियाली तीज
  • श्रावण पूर्णिमा
  • कांवर यात्रा

भाद्रपद

भाद्रपद माह को हम भादो या पुरातासी के नाम से भी जानते हैं। इस माह में बहुत सारे प्रमुख त्योहार आते हैं जैसे तीज, गणेश चतुर्थी इत्यादि। यह पावन महीना अगस्त के मध्य से शुरू होता है और सितंबर के मध्य तक खत्म हो जाता है। इस माह में हम गणेश चतुर्थी जैसे पवित्र पर्व को पूरे देश में धूमधाम से मनाते हैं।

प्रमुख त्योहार

  • गणेश चतुर्थी
  • आनंद चौदस
  • हरितालिका तीज
  • ऋषि पंचमी
  • पितृपक्ष

अश्विन

हिंदू कैलेंडर के अनुसार अश्विन साल का सातवां महीना होता है। यह महीना सितंबर के मध्य से शुरू होता है और अक्टूबर के मध्य तक चलता है। नवरात्रि, दिवाली, धनतेरस, काली पूजा जैसे त्योहारों का अश्विन माह में आगमन हो जाता है। इस महीने को कुआं मीणा भी कहते हैं। इस महीने का लोगों को बेसब्री से इंतजार होता है क्योंकि इस महीने मैं दिवाली दुर्गा पूजा जैसे त्योहार मनाए जाते हैं।

प्रमुख त्यौहार

  • काली पूजा
  • दीपावली
  • धनतेरस
  • दुर्गा पूजा

कार्तिक

कार्तिक साल का आठवां महीना होता है और यह महीना अक्टूबर के मध्य से शुरू होता है और नवंबर के मध्य तक खत्म हो जाता है।कार्तिक माह में हम गोवर्धन पूजा, भाई दूज, देवउठनी ग्यारस जैसे प्रमुख पर्व मनाते हैं। तुलसी विवाह को ही देवउठनी ग्यारस कहते हैं। लोगों का मानना है कि यह दिन शुभ कार्य के लिए बहुत ही पवित्र है। सिख धर्म का सबसे मुख्य त्यौहार गुरु नानक जयंती भी कार्तिक माह में आता है।

प्रमुख त्योहार

  • गोवर्धन पूजा
  • भाई दूज
  • महापर्व छठ पूजा
  • गुरु नानक जयंती

मार्गशीर्ष

यह माह साल का नवा महीना होता है, इस माह को हम अगहन के नाम से भी जानते हैं। यह नवंबर के मध्य से शुरू होता है और दिसंबर के मध्य तक चलता है। अगहन के महा में हम मोक्ष एकादशी का पर्व मनाते हैं। मोक्ष एकादशी को हम वैकुण्ठ एकादशी से भी जानते हैं।

प्रमुख त्योहार

  • शंख की पूजा
  • मोक्ष एकादशी
  • श्रीदत्त जयंती
  • श्री कृष्ण के बाल स्वरूप की पूजा

पौष

यह साल का दसवां महीना होता है और इससे पूस का महीना भी कहा जाता है।पौष दिसंबर के मध्य से शुरू होता है और यह जनवरी के मध्य तक जारी रहता है। यह माह सबसे अधिक ठंड होने वाला महीना होता है।पौष के महीने में हम मकर संक्रांति, लोहड़ी जैसे प्रमुख त्योहार मनाते हैं। यह महीना मकर राशि वालों के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है।

प्रमुख त्योहार

  • मकर संक्रांति
  • लोहड़ी
  • सूर्य उपासना

माघ

यह हिन्दू कैलेंडर का 11वां महीना होता है और इसकी शुरुआत जनवरी के मध्य से होती है और फरवरी के मध्य तक खत्म हो जाती है। माघ माह के कुछ पवित्र त्योहारों में से बसंत पंचमी, और महाशिवरात्रि जैसे पर्व शामिल है। यह माह कुंभ राशि वालों के लिए बहुत शुभ माना जाता है। विद्या की देवी मां सरस्वती की पूजा की जाती है और वहीं दूसरी तरफ उत्तरी भारत में माघ का मेला के रूप में बहुत बड़ी उत्सव का आयोजन होता है।

प्रमुख त्योहार

महाशिवरात्रि
सरस्वती पूजा
माघ का मेला
कुंभ संक्रांति

फाल्गुन

हिंदू वर्ष का आखरी महीना यानी बारवामहीना फाल्गुन होता है। यह फरवरी के मध्य से शुरू होता है और मार्च के मध्य तक जारी रहता है। गर्मी की शुरुआत इस महीने से आरंभ होने लगती है। रंगों का त्योहार होली फाल्गुन मास में बहुत धूमधाम से मनाई जाती है। फाल्गुन माह को हम फागू नाम से भी जानते हैं। यह महीना मीन राशि वालों के लिए बहुत अच्छा माना जाता है।

प्रमुख त्योहार

  • रंगों का त्योहार होली
  • मौनी अमावस्या
  • कालाष्टमी व्रत
  • वसंत ऋतु की शुरुआत

निष्कर्ष

आज इसआर्टिकल के माध्यम से आपने यह सीखा कि पूरे साल के 12 महीने को हिंदी में या हिन्दू कैलेंडर के अनुसार क्या कहते हैं। इसके साथ ही हमने यह भी जाना कि इन सभी महीनों में कौन-कौन से मुख्य पर्व, त्योहार या जयंती को मनाया जाता है। एक भारतीय होने के नाते हमें यह सब जानना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह हमारे हिंदू धर्म का अहम हिस्सा है। हमें खुद तो इस बारे में जानकारी रखनी ही चाहिए साथ ही साथ अपने बच्चों को भी यह बताना चाहिए कि Hindu Calendar ke 12 Mahino ke Naam को हिंदी में क्या कहते हैं।
एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने